लिंग (Gender) in Hindi | लिंग की परिभाषा व प्रकार | What is Gender & its types in Hindi

लिंग (Gender) in Hindi | लिंग की परिभाषा व प्रकार | What is Gender & its types in Hindi.

लिंग की परिभाषा (Gender definition in Hindi)

लिंग की परिभाषा: संज्ञा का ऐसा रूप जिसके माध्यम से किसी भी व्यक्ति वस्तु जीव की जाति का पता चले उन शब्दों को लिंग कहा जाता है इन शब्दों के माध्यम से पता चलता है कि व्यक्ति या वस्तु पुरुष जाति का है या स्त्री जाति का है।

अन्य शब्दों में– शब्द के जिस रुप से स्त्री या पुरुष जाति होने का बोध हो उसे लिंग कहते हैं।

ये भी पढ़ें- भाषा (Bhasha) किसे कहते है व भाषा के प्रकार?

लिंग - लिंग की परिभाषा (Gender definition in Hindi)
लिंग – लिंग की परिभाषा (Gender definition in Hindi)

लिंग के भेद/प्रकार (Types of gender in Hindi)

लिंग के भेद: लिंग के मुख्यत: दो भेद हैं-

  • 1. स्त्रीलिंग
  • 2. पुल्लिंग

1. स्त्रीलिंग

शब्द के जिस रुप से स्त्री जाति का बोध हो उसे इस स्त्रीलिंग कहते हैं।

जैसे- शिक्षिका, माता , घोड़ी नौकरानी, वधू, भाभी आदि।

2. पुल्लिंग

शब्द के जिस रुप से पुरुष जाति का बोध हो उसे पुल्लिंग कहते हैं।

जैसे -शिक्षक, पिता, पुत्र, बैल, घोड़ा, हाथी, भाई आदि।

Related posts –

पुल्लिंग से स्त्रीलिंग बनाने के नियम

1.) ‘आ’ प्रत्यय जोड़ने से लिंग परिवर्तन

पु.                                स्त्री.

प्रिय                              प्रिया

बाल                              बाला

कृष्ण                            कृष्णा

छात्र                             छात्रा

आचार्य                        आचार्या

कांत                             कांता

2.)  ‘ई’ प्रत्यय के योग से  अ ,आ ,का ‘ई’ होना

 देव।                            देवी

लड़का                        लड़की

दास      ‌‌                     दासी

घोड़ा                          घोड़ी

कबूतर                         कबूतरी

चाचा                          ‌ चाची

डाल                            डाली

3.) ‘ऊ’ तथा ‘आ’ का ‘इया’ में परिवर्तन

 कुत्ता                        कुत्तिया

बेटा                          बिटिया

बुड्ढा                          बुढ़िया

चिड़ा    ‌‌                    चिड़िया

चूहा                           चुहिया

लोटा                          लुटिया

बंदर                          बंदरिया

4.) ‘अक’ का ‘इका’ में परिवर्तन

लेखक।                       लेखिका

पालक।                       पालिका

नायक।                        नायिका

अध्यापक।                    अध्यापिका

पाठक।                        पाठिका

बालक।                        बालिका

शिक्षक।                       शिक्षिका

5.)अंत में आनी का प्रयोग:

सेठ।                             सेठानी

जेठ।                             जेठानी

चौधरी।                          चौधरानी

नौकर।                            नौकरानी

देवर।                              देवरानी 

भव।                               भवानी

6.) अंत में ‘वती’ का प्रयोग:

भगवान।                           भगवती

पुत्रवान।                            पुत्रवती

गुणवान।                            गुणवती

भाग्यवान।                           भाग्यवती

सत्यवान।                            सत्यवती

बलवान।                             बलवती

7.) ‘मान’ का ‘मती’ में परिवर्तन:

बुद्धिमान।                           बुद्धिमती

आयुष्मान।                          आयुष्मति

8.) अंत में ‘इन’ प्रत्यय का प्रयोग:

नाई।                                  नाइन

लुहार।                                लुहारिन

सुनार।                                सुनारिन

धोबी।                                 धोबिन

माली।                                 मालिन

जुलाहा।                              जुलाहिन

9.) अंत में ‘आइन’ प्रत्यय का प्रयोग:

लाला।                                ललाइन

पंडित।                                पंडिताइन

बनिया।                               बनियाइन

ठाकुर।                                ठकुराइन

बाबू।                                  बबुआइन

हलवाई।                              हलवाइन

10.) ‘मादा’ का प्रयोग:

खरगोश।                              मादा खरगोश

भेड़िया।                                मादा भेड़िया

चीता।                                  मादा चीता

गीदड़।                                 मादा गीदड़

भालू।                                  मादा भालू

जिराफ।       ‌                       मादा जिराफ

11.) भिन्न रूप वाले पुल्लिंग- स्त्रीलिंग शब्द:

बादशाह        ‌‌                       बेगम

बाप                                     मां

नर                                       नारी

जीजा                                   दीदी

ससुर                                    सास

भाई                                     बहन

औरत                                   मर्द

बैल                                      गाय

युवक                                    युवती

वर                                       वधू

पुरुष                                    स्त्री

दूल्हा                                    दुल्हन

लिंग की पहचान के नियम

1. जिन शब्दों के अंत में ‘अ’ का प्रयोग होता है, वे अक्सर पुल्लिंग ही होते हैं। जैसे- मेज, तन, मन, धन शेर,, घर ,मकान आदि

2. जिन शब्दों के अंत में पा, पन ,त्व का प्रयोग होता है ,वह भी पुल्लिंग होते हैं। जैसे -छुटपन, बुढ़ापा, बचपन, यौवन आदि।

3. महीनों के नाम पुलिंग होते हैं-जनवरी, फरवरी,मार्च अप्रैल,मई,जून,जुलाई,अगस्त,सितंबर,अक्टूबर,नवंबर,दिसंबर।

4. दिनों के नाम भी पुल्लिंग होते हैं-सोमवार ,मंगलवार, बुधवार, बृहस्पतिवार, शुक्रवार, शनिवार ,रविवार।

5. देशों के नाम भी पुल्लिंग होते हैं-भारत ,पाकिस्तान ,बांग्लादेश ,जापान, चीन आदि।

6. पर्वतों के नाम भी पुल्लिंग होते हैं-हिमालय,विंध्यांचल, सतपुड़ा, आल्प्स आदि।

7. समय तथा उसके विभागों के नाम  पुल्लिंग होते हैं ।जैसे -समय ,वक्त काल, पल, घंटा, मिनट ,पहर, दिन दिनांक ,मास, वर्ष आदि। परंतु घड़ी ,रात, तिथि, सदी, शताब्दी शब्द स्त्रीलिंग होते हैं।

8. हिंदी के महीने में पुल्लिंग होते हैं-चैत, बैसाख, जेठ, आषाढ़ ,श्रावण ,आश्विन, कार्तिक ,माह ,फाल्गुन आदि।

9. ग्रह नक्षत्रों के नाम भी पुलिंग होते हैं। जैसे -सूर्य ,चंद्र ,मंगल ,बुध, बृहस्पति, शुक्र, शनि आदि।

10. नदियों के नाम प्रायः इस स्त्रीलिंग होते हैं। जैसे-झील, नदी, गंगा, यमुना, सरस्वती ,नहर, मिट्टी ,पृथ्वी आदि।

11. कुछ नदियों के नाम पुल्लिंग होते हैं। जैसे- ब्रह्मपुत्र ,सिंधु, सतलुज ,व्यास, चिनाब, झेलम।

12. कुछ सब्जियों के नाम पुल्लिंग व स्त्रीलिंग होते हैं जैसे-पुल्लिंग-शलगम ,अदरक, बैंगन, पुदीना, खरबूजा ,प्याज ,लहसन ,टिंडा, पेठा ,खीरा ,करेला ,आलू ,नीबू ,तरबूज ,सिंघाड़ा, पालक आदि।

स्त्रीलिंग-तुरई, भिंडी, मूली, गाजर, मेथी, सरसों ,फलियां, बंदगोभी, फूलगोभी, अरबी ,सेम की फली कमलककड़ी आदि।

13. कुछ पेड़ों के नाम भी पुल्लिंग होते हैं तो कुछ स्त्रीलिंग। जैसे-

पुल्लिंग: वृक्ष, कटहल, फालसा, पपीता ,कीकर, नींबू, सेब,जामुन , नारियल, चकोतरा ,बिजोरा, चंदन ,देवदार ,ताड़ पौधा ,पेड़ , बूटा, अंकुर ,उद्यान, खेत, वन।

स्त्रीलिंग: खजूर ,नाशपाती ,खिरनी ,लीची, इमली ,अमलतास, मौसमी ,खूवानी ,चमेली, अंजीर ,नरगिस ,बेल ,लता, पौध,  जड़, सिंचाई, खेती, बगिया, जुताई, निराई, कटाई।

14. धातुओं के नाम प्रायः पुल्लिंग होते हैं। जैसे- सोना, पीतल ,लोहा ,तांबा, कांस्य, एलमुनियम, प्लेटिनम ,यूरेनियम पारा।

15. किराना की चीजों के नाम अधिकांश  स्त्रीलिंग होते हैं ।जैसे -सौठ, हल्दी, सौंफ, अजवाइन ,कलौंजी लौंग ,सुपारी ,काली मिर्च ,इमली।

16. जिन संख्याओं के अंत में आ,उ,ऊ इ,ई आदि आते हैं ,वह स्त्रीलिंग शब्द होते हैं। जैसे -भाषा, माला, प्रार्थना लता, आज्ञा, दया, मूर्ति ,नदी ,सरिता, रश्मि ,वधू।

परंतु कुर्ता ,कुत्ता ,लड़का, बूढा, पिता, आदि पुल्लिंग होते हैं।

17. कुछ इकारांत स्त्रीलिंग होते हैं ‌जैसे- राशि, बुद्धि ,भक्ति ,मति ,रुचि ,छवि ,स्तुति ,गति, स्थिति, भीति,  रीति आदि।

कुछ इकारांत पुल्लिंग भी होते हैं। जैसे- रवि ,शशि ,मुनि हरि ,कवि, यति आदि।

18. जिन संज्ञाओं के अंत में ‘त’ होता है ,वे प्रायः स्त्रीलिंग होते हैं ।जैसे -रात ,बात ,गत,लात आदि।

19. जिन संज्ञाओं के अंत में ‘ख’ ‘आई’, ‘हट’ ,’वट’ और ‘ता’ आते हैं, वे प्राय स्त्रीलिंग होते हैं ।जैसे-भीख, सीख ,राख, आहट, मुस्कुराहट, घबराहट ,झुंझलाहट, झल्ला हट, भलाई ,बुराई ,ऊंचाई, गहराई, सच्चाई ,सजावट ,मिलावट ,रुकावट ,थकावट, स्वतंत्रता ,लघुता, मित्रता, शत्रुता ,मधुरता ,सुंदरता, मनोहरता आदि।

20. भाषाओं तथा बोलियों के नाम स्त्रीलिंग होते हैं। जैसे -हिंदी ,बांग्ला ,गुजराती, मराठी, पंजाबी ,ब्रज ,अवधि, तमिल, तेलुगू ,कन्नड़, मलयालम ,संस्कृत, उर्दू ,अरबी ,फारसी ,अंग्रेजी, जापानी, रुसी, यूनानी आदि।

21. जो शब्द अंग्रेजी से हिंदी में आए हैं उनका लिंग हिंदी भाषा की प्रकृति के अनुसार निर्धारित होता है। जैसे-

पुल्लिंग: रेडियो ,टेलीफोन ,टेलीविजन, स्कूल, स्टेशन ,डॉक्टर ,पेन ,बूट ,बटन ,ग्राउंड ,स्टेशन आदि।

स्त्रीलिंग: बस ,बोतल, ट्रेन, यूनिवर्सिटी ,पैंट ,पेंसिल ,फिल्म,  पिक्चर, मशीन आदि।

Also-

Find How HomepageClick Here
Telegram ChannelClick Here
अधिक अपडेट के लिए, हमारे साथ सामाजिक रूप से जुड़े रहेंInstagram
LinkedIn
Twitter
Facebook & 
Youtube

Leave a Reply