सर्वनाम किसे कहते है व सर्वनाम के भेद जानें | सर्वनाम की परिभाषा, भेद व उदाहरण | Sarvanam kise kahte hain?

सर्वनाम किसे कहते है व सर्वनाम के भेद जानें | सर्वनाम की परिभाषा, भेद व उदाहरण | Sarvanam kise kahte hain? सर्वनाम: सर्वनाम शब्द ‘सर्व ‘और ‘नाम’ दो शब्दों के जुड़ने से बना है, जिसका अर्थ है- सबका नाम।

अर्थात् सभी वस्तुओं का एक सामान्य नाम। संसार में सजीव, निर्जीव, ज्ञात, अज्ञात आदि सभी शब्दों के स्थान पर इसका प्रयोग किया जा सकता है। नीचे लिखे वाक्यों को पढ़िए:

  • १. एक मेधावी विद्यार्थी है ।वह अपनी कक्षा में हमेशा प्रथम आता है।
  • २. राधा ने कहा कि मैं स्कूल नहीं जाऊंगी। 
  • ३. राम, तुम मुझे हमेशा धोखा देते रहे हो।

ऊपर लिखित वाक्यों में ‘वह’ राम के लिए ‘मैं’ राधा के लिए तथा ‘तुम’ राम के लिए प्रयुक्त हुआ है। ये तीनों ही संज्ञा पद हैं ।इनके स्थान पर प्रयुक्त होने वाले वह, मै,तुम सर्वनाम है।

सर्वनाम की परिभाषा – सर्वनाम किसे कहते है

जो शब्द संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त होते हो, वह सर्वनाम कहलाते हैं। जैसे -मैं ,तुम ,वह ,वे, उसे, मुझे, मेरा ,तुम्हारा ,उन्होंने ,इन्होंने आदि।

ये भी पढ़ें-

सर्वनाम के भेद

सर्वनाम के 6 भेद है।

  • १ पुरुषवाचक सर्वनाम
  • २. निश्चयवाचक सर्वनाम
  • ३. अनिश्चयवाचक सर्वनाम
  • ४. संबंधवाचक सर्वनाम
  • ५. प्रश्नवाचक सर्वनाम
  • ६. निजवाचक सर्वनाम

१. पुरुषवाचक सर्वनाम:

बोलने वाला ,सुनने वाला व्यक्ति अथवा अनुपस्थिति व्यक्ति के लिए प्रयुक्त सर्वनाम पुरुषवाचक कहलाता है ।इस के तीन भेद हैं:

1. उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम: जिन सर्वनामो का प्रयोग लिखने वाला या बोलने वाला अपने लिए करता है, उसे उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं ।जैसे- मैं ,मेरी, मेरा, हम, हमारे आदि।

2. मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम: वक्ता द्वारा श्रोता के नाम के स्थान पर जिन सर्वनामो का प्रयोग किया जाता है ,उन्हें मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे -तुम ,तू, आप मध्यम पुरुष के उदाहरण हैं।

  •  –तुम कहां रहते हो?
  • –क्या आपका घर दिल्ली में है?

3. अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम: जिन सर्वनाम का प्रयोग वक्ता किसी अन्य व्यक्ति के लिए करता है उसे अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं ।जैसे- यह ,वह ,वे,उसकी, उसे आदि।

२. निश्चयवाचक सर्वनाम:

किसी निश्चित वस्तु एवं व्यक्ति के लिए जिस सर्वनाम का प्रयोग होता है, उसे निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं अर्थात जिनसे किसी निश्चित वस्तु या व्यक्ति का बोध हो ,उसे निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं।

  • –यह मेरा घर है।
  • –वह मोहन का है।

इन वाक्यों में यह, वह आदि निश्चयवाची सर्वनाम है ।निश्चयवाचक सर्वनाम को संकेतवाचक या निर्देशक सर्वनाम भी कहा जाता है। अन्य पुरुषवाचक का प्रयोग भी निश्चयवाचक के समान होता है।

३.अनिश्चयवाचक सर्वनाम:

जिनमें किसी निश्चित वस्तु या व्यक्ति का बोध नहीं होता, उसे अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं ।अनिश्चयवाचक दो हैं- कोई ,कुछ ।उदाहरण देखिए–

  • –अभी अभी कोई घर आया था।
  • –मुझे कुछ रुपए दे दो।

इसी प्रकार ‘किसी ‘और ‘किन्हीं’ शब्दों का प्रयोग अनिश्चयवाचक सर्वनाम के लिए किया जाता है ।जैसे-

  • किसी शरारती बच्चे ने ही पहन तोड़ा है।
  • किन्ही दो विद्यार्थियों को बुलाकर लाओ।

उपरोक्त वाक्य में ‘किसी’, ‘किन्ही,’ ‘कोई’ और ‘कुछ’ शब्दों से भी किसी वस्तु या व्यक्ति के विशेष मैं निश्चित रूप से पता नहीं चल रहा, इसलिए यह सभी अनिश्चयवाचक सर्वनाम है।

४. संबंधवाचक सर्वनाम:

जो शब्द एक सर्वनाम का दूसरे सर्वनाम के साथ संबंध प्रकट करता है, उसे संबंधवाचक सर्वनाम कहते हैं। उदाहरण देखिए

  • जैसा करोगे, वैसा भरोगे।
  • जिसकी लाठी, उसकी भैंस।
  • जिसे काम कहा जाएगा, उसे ही करना पड़ेगा।

उपरोक्त वाक्य में जैसा, वैसा ,जिसकी उसकी ,जो ,सो आदि शब्दों से दो सर्वनाम के संबंधों का पता चलता है ,इसलिए यह संबंधवाचक सर्वनाम है।

५. प्रश्नवाचक सर्वनाम:

जिन सर्वनामो से किसी प्रश्न का बोध होता है, उन्हें प्रश्नवाचक सर्वनाम कहते हैं ।जैसे–

  • क्या लिख रहे हो?
  • –तुम्हारे यहां कौन आया है?
  • किसने तुम्हें गाली दी है?

उपर्युक्त वाक्यों में क्या, कौन ,किसने आदि शब्दों का प्रयोग प्रश्न पूछने के लिए किया गया है। इसलिए यह प्रश्नवाचक सर्वनाम है।

६. निजवाचक सर्वनाम:

जहां अपने लिए ‘आप ‘शब्द का या ‘अपने आप’ शब्द का प्रयोग होता है, उसे निजवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे-

  • –मैं स्वयं तुम्हारे घर आऊंगा।
  • –आप चिंता ना करें मैं अपने आप आ जाऊंगा।
  • –मैंने खुद खाना बनाया है।

इन वाक्यों में अपने आप ,स्वयं ,खुद शब्द अपने लिए प्रयोग किए गए हैं ।अतः यह निजवाचक सर्वनाम है।

ये भी देखें-

FindHow.net HomepageClick Here
Telegram ChannelClick Here

Leave a Reply

error: Content is protected !!