SEO क्या है जाने SEO in Hindi ? | SEO कैसे करें पूरी जानकारी

SEO in Hindi – आज कल SEO बेहद ही पोपुलर हो रहा है, लेकिन बहुत से लोग SEO क बारे में अच्छे से नहीं जानते है। क्या आप SEO के बारे में सब कुछ जानना चाहते हैं? इससे पहले कि हम आपको बताए कि एसईओ(SEO) कैसे काम करता है और इसे कैसे करना है, आइए आज हम पहले SEO की परिभाषा जान लेते है, और फिर हम SEO कैसे काम करते हैं, इस पर ध्यान देंगे।

तो दोस्तों एसईओ(SEO) के बारे मे जान ने पहले कुछ महत्वपूर्ण Terms को जान लेते है जो की आगे इस पोस्ट को समाजने मे आपकी सहायता करेंगी।

सबसे बड़ा सर्च इंजन गूगल है तो इस पोस्ट मे गूगल मे एसईओ(SEO) के बारे मे ही बात करेंगे, यदि आप गूगल मे एसईओ(SEO) सीख लेते है तो आप किसी भी सर्च इंजिन मे एसईओ कर पाएंगे आसानी से।

SEO क्या है? (What is SEO in Hindi)

एसईओ का फुल फॉर्म क्या है है यह भी क्यी लोगो को नहीं पता होता है- एसईओ का फुल फॉर्म होता है सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन(Search Engine Optimization).

एसईओ(SEO) से तात्पर्य सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन(Search Engine Optimization) है। SEO किसी वेबसाइट या सामग्री के टुकड़े को Google पर उच्च रैंक दिलाने में मदद करने के लिए कदम उठाने की प्रक्रिया है। वैसे तो एसईओ की बहुत सी परिभाषाएँ है लेकिन एसईओ का मतलब जो कि उसके full formसे पता लगता है, SEO एक ऐसी प्रक्रिया है जिस से आप अपने कंटैंट को इस तरह बनाते कि उसे सर्च इंजन आसानी से समझ सके व उसे आसानी से क्राल और इंडेक्स कर सके, उसे ही एसईओ(SEO) कहते है।

एसईओ(SEO) वह तकनीक व तरीके होते है जिस के जरिए आप सर्च रिज़ल्ट (SERP) मे सबसे ऊपर आ सकते है बिना कोई एड मे पैसे दिए।

SEO in Hindi

Searchengineland वैबसाइट के अनुसार एसईओ(SEO) से तात्पर्य सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन है। सरल शब्दों में, SEO का अर्थ यह है कि जब लोग Google, बिंग और अन्य खोज इंजनों में किसी भी चीज़ से संबंधित उत्पादों या सेवाओं की खोज करते हैं, तो आपकी साइट की रंकिंग बढ़ाने के लिए व इसे बेहतर बनाने की प्रक्रिया ही SEO कहलाती है। खोज परिणामों में आपके पृष्ठों की रेंकिंग जितनी बेहतर होगी, आपके व्यवसाय की ओर ध्यान आकर्षित करने और संभावित और मौजूदा ग्राहकों को आकर्षित करने की संभावना उतनी ही अधिक होगी।

अधिकांश ऑनलाइन खोज(सर्च) Google जैसे खोज इंजन से शुरू होती हैं। दरअसल, दुनिया मे सभी सर्च मे से 75 फीसदी सर्च गूगल पर शुरू होते हैं।

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन का अर्थ यह भी है कि आपका ऑनलाइन कंटैंट लेना और इसे ऑप्टिमाइज़ करना ताकि जब कोई उस कंटैंट को खोजता है तो Google जैसे सर्च इंजन उसे अपने सर्च रिज़ल्ट मे कौनसे जगह पर दिखाते हैं।

SEO क्या होता है समझिए एक आसान उदाहरण के साथ | Learn SEO in Hindi

मान लीजिये मैं गूगल याने कि एक सर्च इंजिन हूँ, अब आप मेरे पास कुछ पूछने याने कि खोजने आए है। मान लेते है आपने पूछा कि “SEO”, अब सर्च इंजिन आपको परिणाम उस से मिलते झूलते दिखा देता है जिस किसी ने भी इस बारे मे अच्छे से लिखा हुआ होगा जो कि उस सर्च इंजिन को बेस्ट लगेगा(SEO) वही रिज़ल्ट आपको दिखाई देगा। अब वही कंटैंट उन परिणामो मे शामिल होगा जिसने SEO अच्छे से किया होगा।

एसईओ इन हिन्दी

कुछ भी सर्च करने के बाद, सर्च इंजन एल्गोरिदम इंडेक्स में pages का विश्लेषण करता है, सैकड़ों रैंकिंग कारकों या संकेतों को ध्यान में रखते हुए, यह निर्धारित करने के लिए कि किसी पूछे हुए सवाल के लिए खोज परिणामों में पेज किस ऑर्डर मे दिखाई देने चाहिए।

आपको बता दें, कि सर्च इंजिन पहले से सभी वेब पेज को क्रॉल करके रखता है और जैसे ही कोई कुछ भी खोजता है उसी से जुड़े हुए परिणाम जो पहले से क्रॉल किए जा चुके है उन्हे खोज परिणामो मे दिखा देता है। रोजाना, क्रॉलर लाखो नए पेज को क्रॉल करते है।

जैसे मैंने इसके बारे मे लिखा है और SEO भी अच्छे से किया है याने कि जो कि सर्च इंजिन को भी समझ मे आए और बहुत सी बाते भी होती है तभी सर्च इंजिन आपको इंडेक्स करता है, जो इस पोस्ट मे आपको नीचे बताई गयी है।

SEO के प्रकार

इस पोस्ट मे आपको एसईओ कैसे करे यह भी बताया जाएगा। साथ मे आपको सभी प्रकार के SEO के बारे मे और कैसे करे सब बताया जाएगा।

SEO मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते है

  • ऑफ पेज एसईओ/On-Page SEO,
  • ऑन पेज एसईओ/off-page SEO
  • व लोकल SEO/ Local SEO शामिल है।

SEO कैसे करे?

SEO कैसे करते है यह सीखने से पहले आपको अपनी वैबसाइट को गूगल व अन्य सर्च इंजिन मे जरूर add कर लेना चाहिए ताकि सर्च इंजिन आपकी वैबसाइट को इंडेक्स कर सके और आप एसईओ के जरिए रेंक कर पाए।

SEO kaise kare

1. On-Page SEO (ऑन पेज एसईओ) क्या है कैसे करे?

ऑन पेज एसईओ (“ऑन-साइट एसईओ” के रूप में भी जाना जाता है) खोज इंजन और उपयोगकर्ताओं के लिए वेब पेज सामग्री को इंडेक्स करने का तरीका है। सामान्य रूप से ऑन-पेज एसईओ में टाइटल टैग, कंटैंट, इंटरनल लिंक और यूआरएल का इस्तेमाल शामिल है।

आसान भाषा मे हम यह कह सकते है की ऑन पेज एसईओ अपने कंटैंट को सर्च इंजिन के लिए बेस्ट तरीके से समझने लायक बनाना ताकि वह आसानी से इंडेक्स होकर रेंक हो सके।

ऑन पेज एसईओ के लिए बहुत से कारक होते है जिन्हे हम आपको नीचे आसान भाषा मे बताएँगे- इस पोस्ट मे नीचे आपको बताते है कि वे कौन सी बाते है जो SEO करते समय ध्यान मे रहनी चाहिए।

  • Title Tag – शीर्षक टैग एक वेब पेज का शीर्षक तत्व है जो किसी पृष्ठ पर मिली सामग्री को सारांशित करता है। यह तीन प्रमुख स्थानों पर दिखाई देगा: ब्राउज़र, खोज इंजन परिणाम पृष्ठ, और बाहरी साइट जैसे फेसबुक या ट्विटर। हम शीर्षक टैग के उदाहरण बाद में देखेंगे। ध्यान में रखने वाली एक महत्वपूर्ण बात है। खोज इंजन एक शीर्षक टैग मे उन कीवर्ड और वाक्यांशों को शामिल करने की अपेक्षा करते हैं जो बताते करते हैं कि वह पेज किस बारे में है।
  • Link- यह आपके पेज/पोस्ट का लिंक होता है। इसमे भी आपको keyword का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • Meta Description Tag – मोटा विवरण टैग का उद्देश्य वेब पेज पर मिलने वाली सामग्री का संक्षिप्त सारांश होता है। जबकि शीर्षक टैग बहुत सीमित है, एक मेटा विवरण आपको उपयोगकर्ताओं को यह बताने के लिए थोड़ा और स्थान देता है कि आप क्या पेश कर रहे हैं, और यह उन्हें आपके पेज पर क्लिक करने के लिए एक कारण देने का अवसर है।

आइए जानते है ऑन पेज एसईओ (On-Page SEO) कैसे करे

On-page SEO के लिए जिन बातों को ध्यान रखने की जरूरत होती है वह है –

1. वैबसाइट की लोड स्पीड-

यह एक बेहद महत्वपूर्ण कारक है आपकी वैबसाइट के ऑन पेज एसईओ के लिए। यदि आपकी वैबसाइट को लोड होने याने कि वैबसाइट खुलने मे ज्यादा समय लगता है तो वह ऑन-पेज एसईओ के लिए ठीक नही है। क्यूकी यदि कोई आपकी साइट पे सर्च करने के बाद आता है और आपकी वैबसाइट ओपें होने मे समय लेती है वह किसी और वैबसाइट मे चला जाता है और वह SEO के लिए ठीक नहीं है। और आपकी रेंक नीचे गिर जाती है।

अपनी वैबसाइट की लोड स्पीड चेक करे- क्लिक करे। यहा आपको आपकी वैबसाइट की लोड स्पीड और उसे ठीक करने के तरीके गूगल बता देता है। आपका score 70 से अधिक है आपकी लोड स्पीड अच्छी मानी जाती है।

2021 में अपनी कंटैंट को रैंक करने के लिए, आपको अपनी कंटैंट को इसके लिए अनुकूलित करने की भी आवश्यकता है:

  • User का अनुभव
  • visitor का बाउन्स रेट और रहने का समय (वैबसाइट पे लोगो का रुकने का समय)
  • खोज इंटेंट
  • पेज लोड करने की गति
  • CTR-क्लिक थ्रू रेट (कितने लोग आपके वैबसाइट को सर्च मे देखते है और कितने क्लिक करते है)

इसके अलावा आप इस तरीको का भी इस्तेमाल करे वैबसाइट की लोड स्पीड कम करने के लिए- Simple और lite थीम जैसे की Astra आदि का प्रयोग करे, कम plugins का इस्तेमाल करे, अच्छे सर्वर की वेब होस्टिंग ले, image कम size की डाले और इसके अलावा आप cache के लिए WP-super cache plugin का इस्तेमाल करे।

2. On-page SEO के लिए अपने कंटैंट को ऑप्टिमाइज़ करें

अब जब आपने देख लिया है कि ऑन-पेज एसईओ अभी भी क्यों मायने रखता है, तो यह आपकी सामग्री का अनुकूलन(optimize) शुरू करने का समय है।

विशेष रूप से, इस पोस्ट में मैं आपको अपनी वेबसाइट के प्रत्येक पृष्ठ को कीवर्ड-ऑप्टिमाइज़ करने का तरीका दिखाने जा रहा हूँ।

इसलिए यदि आपने कभी सोचा है कि “मैं वास्तव में अपने पृष्ठ पर कीवर्ड का उपयोग कैसे करूं?”, तो आपको इस पोस्ट में सीए गए तरीके पसंद आएंगे।

आप keyword खोज के लिए Aherfs, Keywordtool, Sermrush आदि बेस्ट keyword research टूल का प्रयोग कर सकते है।

आपको सबसे पहले Keyword का चयन करना है जिस पे आपको कंटैंट लिखना है। उसके बाद आपको नीम बाटो को ध्यान मे रखना है –

  • पहले 100 शब्दों में अपने टार्गेट कीवर्ड का प्रयोग करें- जिस भी keyword पे आप कंटैंट लिख रहे है उस Keyword को अपने आर्टिक्ल के पहले 100 शब्दो मे जरूर लिखे।
  • अपने ब्लॉग पोस्ट के शीर्षक को H1 टैग का प्रयोग करे।
  • H2 में सबहेडिंग मे बाकी के महत्वपूर्ण keyword का इस्तेमाल करे।
  • कीवर्ड फ़्रीक्वेंसी याने की पोस्ट मे keyword कितनी बार लिखा ज्ञ है यह भी ध्यानपूर्वक करना होता है। ज्यादा keyword का इस्तेमाल भी ठीक नहीं होता।
  • बाहरी (आउटबाउंड) लिंक का उपयोग करें याने की कोई कठिन शब्द है तो आप्क उसके लिए लिंक दे सकते है जिस पे क्लिक करके लोग उस के बारे मे भी जान सके।
  • SEO के लिए अपने URL को ऑप्टिमाइज़ करें। आपकी वैबसाइट मे कंटैंट के यूआरएल याने की लिंक मे Keyword का प्रयोग करे।

3. Title व Description Tags(keyword) को optimize करें

Google के अनुसार, शीर्षक(title) टैग अभी भी आपकी रैंकिंग के साथ “बहुत मदद करते हैं”। इसलिए वे अनुकूलन के लायक हैं।

आप keyword खोज के लिए Aherfs, Keywordtool, Sermrush आदि बेस्ट keyword research टूल का प्रयोग कर सकते है।

  • अपना टाइटल टैग मे keyword का प्रयोग करें– मेरी राय में, आपका Title tag सबसे महत्वपूर्ण ऑन-पेज एसईओ कारक है। ऐसा इसलिए है क्योंकि आपका शीर्षक टैग खोज इंजनों को आपके पृष्ठ के बारे में एक उच्च-स्तरीय अवलोकन देता है। मेरे अनुभव में, कीवर्ड शीर्षक टैग की शुरुआत के जितना करीब होता है, खोज इंजन के साथ उसका उतना ही अधिक आसान रहता है।
टाइटल टैग मे keyword का प्रयोग
टाइटल टैग मे keyword का प्रयोग
  • Title टैग मे संशोधक का प्रयोग करें– “सर्वश्रेष्ठ”, “गाइड”, “चेकलिस्ट”, “fast” और “review” ” free” “Top” आदि जैसे संशोधक का उपयोग करने से आपको अपने लक्षित कीवर्ड के लिए रैंक करने में मदद मिल सकती है।
Title टैग मे संशोधक का प्रयोग
Title टैग मे संशोधक का प्रयोग
  • Meta Description(मेटा विवरण) मे keyword के साथ unique कंटैंट लिखें – गूगल के अनुसार अपने कंटैंट के मेटा description मे Keyword टेग का प्रयोग करना On-page SEO के लिए अच्छा होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि एक अच्छा मेटा विवरण आपके परिणाम को अलग दिखाने में मदद करता है, जो आपके ऑर्गेनिक सीटीआर को बढ़ा सकता है।
 Meta Description(मेटा विवरण) मे keyword
Meta Description(मेटा विवरण) मे keyword के साथ unique कंटैंट लिखें

4. SEO Friendly कंटैंट लिखें

आपको अगर अपने कंटैंट को सर्च रिज़ल्ट मे रंक कराना है तो आपको एक अच्छा एसईओ कंटैंट लिखना होता है। 2021 में अपने कंटैंट को रैंक करने के लिए, आपकी कंटैंट को ऐसा होना चाहिए:

  • अद्वितीय(Unique) कंटैंट
  • अधिक महत्वपूर्ण (Valuable)
  • खोज इंजन के लिए अनुकूलित

और इस पोस्ट में मैं आपको दिखाऊंगा कि कैसे सुनिश्चित करें कि आपकी एसईओ सामग्री इन सभी 3 कारको मे खरी उतरती है।

1. अद्वितीय(Unique) कंटैंट लिखे

जब मैं “Unique” कहता हूं, तो मैं केवल डुप्लिकेट कंटैंट के बारे में बात नहीं कर रहा हूं।

मेरा मतलब है कि कुछ ऐसा प्रकाशित करना जो केवल उसी सामान को फिर से प्रकाशित नहीं करता है जो पहले से ही बाहर लोगो मे लिखा हुआ है।

दूसरे शब्दों में: कंटैंट जो सर्च रिज़ल्ट में कुछ नया और बेस्ट लाती है।

कंटैंट मे कुछ नया हो सकता है जैसे कि

  • एक नई युक्ति या रणनीति का प्रयोग करना
  • कंटैंट कि एक बेहतर सूची बनाना
  • मजबूत वैबसाइट डिजाइन का इस्तेमाल
  • नया केस स्टडी लिखना
  • चरण-दर-चरण(step by step) प्रक्रिया लिखना
  • कॉपी कंटैंट बिलकुल न लिखे

उदाहरण के लिए, यह कंटैंट पोस्ट “बिटकॉइन अकाउंट कैसे बनाए” कीवर्ड के लिए शीर्ष 3 में रैंक करता है।

2. मूल्यवान कंटैंट लिखे

कुछ अद्वितीय प्रकाशित करना एक अच्छा प्रारंभिक बिंदु है।लेकिन यह काफी नहीं है। (आखिरकार, सचमुच लाखों ब्लॉग पोस्ट हर दिन सामने आते हैं।)

इसलिए आपकी सामग्री को अलग दिखाने और ध्यान आकर्षित करने के लिए, इसे सुपर मूल्यवान होना चाहिए।

यहां कुछ तरीके दिए गए हैं जिनसे आप अपनी SEO सामग्री को अत्यधिक मूल्यवान बना सकते हैं:

  • विवरण जोड़ें: चित्र, स्क्रीनशॉट और चरण किसी के लिए आपकी सामग्री को व्यवहार में लाना आसान बनाते हैं।
  • इंटरनल लिंक का प्रयोग करे। ‘
  • कॉपीराइट फ्री फोटो ही उपलाओड़ करे।
  • स्पष्ट लेखन: सशक्त कॉपी राइटिंग आपकी सामग्री को अधिक आकर्षक बना देगी।
  • Updated सामग्री: बिल्कुल नई रणनीतियाँ, कदम और उदाहरण आपके कंटैंट को बहुत आगे ले जाते हैं।
  • विशेषज्ञ लेखक: अधिकांश सामग्री उन लोगों द्वारा लिखी जाती है जिन्होंने कभी वह काम नहीं किया जो वे आपको करने के लिए कह रहे हैं। प्रत्यक्ष अनुभव वाले किसी व्यक्ति की सामग्री एक यादृच्छिक स्वतंत्र लेखक द्वारा लिखी गई किसी चीज़ की तुलना में लगभग हमेशा अधिक मूल्यवान होती है।

मुख्य बात जो मेरी SEO चेकलिस्ट पोस्ट को इतना मूल्यवान बनाती है, वह है चेकलिस्ट। यह user friendly कंटैंट के साथ शुरू होता है।

3. ऐसा कंटैंट लिखे जो सर्च इंटेंट को संतुष्ट करती है

अद्वितीय(Unique), मूल्यवान सामग्री आपको Google के प्रथम पृष्ठ पर ले जा सकती है। लेकिन अगर आप वहां रहना चाहते हैं, तो आपके पेज को सर्च इंटेंट को संतुष्ट करना होगा।

दूसरे शब्दों में: आपका पेज ठीक वैसा ही होना चाहिए जैसा एक Google खोजकर्ता चाहता है। अन्यथा, आपका पेज कि रेंक और नीचे जाने की संभावना है।

5. CTR-क्लिक थ्रू रेट के लिए ऑप्टिमाइज़ करें

आपकी organic CTR-क्लिक थ्रू रेट दो कारणों से महत्वपूर्ण है:

  • सबसे पहले, सीटीआर (शायद) एक Google रैंकिंग कारक है।
  • दूसरा, आपका CTR बढ़ने से आपकी साइट पर अधिक ट्रैफ़िक आ सकता है।

सीटीआर बढ़ाने के तरीके

  • “प्रश्न शीर्षक टैग” का प्रयोग करें
  • मेटा description मे अच्छा कंटैंट भरें
  • समीक्षा या अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न स्कीमा का उपयोग करें
  • अपने शीर्षक में कुछ भावनाओ को जोड़ें
  • वर्तमान वर्ष को शीर्षक और मेटा विवरण में जोड़ें

6. Mobile-Friendly-वेब page बनाए

हम सबसे पहले मोबाइल के लिए Google Index को जानते हैं। इसका मतलब है कि हमें एक ऐसी साइट बनाने की आवश्यकता है जो मोबाइल पर अच्छा प्रदर्शन करे क्योंकि यह सबसे महत्वपूर्ण निर्णायक कारक होगा जब Google यह निर्धारित करेगा कि आपकी साइट को क्रॉल करना कितना आसान है।

7. एचटीटीपीएस(https) और एसएसएल(SSL) युक्त वैबसाइट

Safety और security महत्वपूर्ण रैंकिंग कारक हैं। अगर Google को लगता है कि आपकी साइट स्पैमयुक्त या स्केची है, तो यह आपको प्रथम-पृष्ठ रैंकिंग नहीं देगा।

एसएसएल प्रमाणपत्र और एचटीटीपीएस के माध्यम से अच्छे से बुरे को फ़िल्टर करने में मदद करने का एक तरीका है। इन्हें सेट करना आसान है और URL स्ट्रिंग से पहले आपके URL और HTTPS के आगे आपको छोटा लॉक दे सकता है। यह एक महत्वपूर्ण विश्वास संकेत है, और जबकि यह इतना एसईओ प्रदान नहीं करता है।

8. विश्वास जनक वैबसाइट

पेजरैंक, Google के संस्थापकों द्वारा आविष्कार किया गया प्रसिद्ध सूत्र, शीर्ष दस खोज परिणामों में पृष्ठों की रैंकिंग करते समय निश्चित रूप से एकमात्र उपाय नहीं है।

विश्वास तेजी से महत्वपूर्ण होता जा रहा है, और हाल के अधिकांश Google अपडेट ने स्पैमयुक्त और अस्पष्ट वेबसाइटों को प्रभावित किया है। ट्रस्टरैंक Google के लिए यह देखने का एक तरीका है कि आपकी साइट वैध है या नहीं। उदाहरण के लिए, यदि आप एक बड़े ब्रांड की तरह दिखते हैं, तो Google को आप पर भरोसा करने की संभावना है। आधिकारिक साइटों (जैसे .edu या .gov डोमेन) से गुणवत्ता वाले बैकलिंक भी मदद करते हैं।

Google आपके द्वारा बनाए जा सकने वाले दो प्रकार के प्राधिकरणों के मिश्रण से आपकी साइट के समग्र अधिकार का निर्धारण करता है:

  • डोमेन प्राधिकरण, जिसका संबंध आपके डोमेन नाम के व्यापक प्रसार से है। उदाहरण के लिए, Coca-cola.com बहुत आधिकारिक है, क्योंकि सभी ने इसके बारे में सुना है।
  • पृष्ठ प्राधिकरण, जो इस बात से संबंधित है कि एक पृष्ठ की सामग्री कितनी आधिकारिक है (उदाहरण के लिए, एक ब्लॉग पोस्ट)।

2. ऑफ पेज एसईओ (off-page SEO) क्या है कैसे करे?

ऑफ-पेज एसईओ क्या है- “ऑफ-पेज एसईओ” उन सभी गतिविधियों को दर्शाता है जो आप और अन्य लोग आपकी वेबसाइट से खोज इंजन वाले पेज की रैंकिंग बढ़ाने के लिए करते हैं।

ऑन-पेज सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन साइट के भीतर होता है, जबकि ऑफ-पेज एसईओ साइट के बाहर होता है। यदि आप किसी अन्य ब्लॉग के लिए अतिथि पोस्ट लिखते हैं या कोई टिप्पणी छोड़ते हैं, तो आप ऑफ-पेज अपनी वेबसाइट का प्रचार कर रहे हैं।

इस नई मार्गदर्शिका में आप सीखेंगे कि Google किस प्रकार के ऑफ-साइट सिग्नल देखना चाहता है, जिसमें शामिल हैं:

  • Backlinks
  • Social signals
  • E-A-T: Expertise, Authorativeness & Trustworthyness
  • Branded searches
  • Online reputation signals

ऑफ-पेज SEO कैसे करे

ऑफ-पेज एसईओ में साइट की खोज इंजन रैंकिंग बढ़ाने के प्रयास में वेबसाइट से की गई गतिविधियां शामिल हैं। सामान्य ऑफ-पेज एसईओ क्रियाओं में बैकलिंक्स बनाना, ब्रांडेड खोजों को प्रोत्साहित करना और सोशल मीडिया पर जुड़ाव और शेयर बढ़ाना शामिल है।

1. बैकलिंक्स के साथ ऑफ-पेज एसईओ को बढ़ावा दें

जब ऑफ-पेज SEO की बात आती है, तो बैकलिंक्स सुपर महत्वपूर्ण हैं। ऑफ-पेज एसईओ के लिए बैकलिंक्स बनाना गुणवत्ता के बारे में होता है … मात्रा के बारे मे नहीं। और यदि आप चाहते हैं कि आपके द्वारा बनाए गए लिंक वास्तव में SERPs में आपकी रैंकिंग को बढ़ावा दें, तो उन्हें संबंधित साइटों से प्राधिकरण लिंक होने की आवश्यकता है।

किस प्रकार के बैकलिंक्स मूल्यवान होते हैं?
  • वे विश्वसनीय, आधिकारिक वेबसाइटों से आते हैं
  • वे लिंक के एंकर टेक्स्ट में आपका लक्षित कीवर्ड शामिल करते हैं
  • आपसे लिंक करने वाली साइट (और पेज) आपकी साइट से शीर्ष रूप से संबंधित है
  • लिंक एक “Dofollow” लिंक है
  • लिंक एक ऐसे डोमेन से है जो पहले आपसे लिंक नहीं किया गया है
आप Backlinks(बैकलिंक्स) कैसे बना सकते है?
  • आप अपनी वैबसाइट को सोश्ल मीडिया मे शेर करके बांकलिंक बना सकते है।
  • आप अपनी वैबसाइट मे फोटो को pinterest पे पिन करके एक अच्छा बक्कलिंक बनके ट्राफिक पा सकते है।
  • आप अच्छी वैबसाइट मे गेस्ट पोस्ट लिख कर बक्कलिंक बना सकते है।
  • आप Quora, vokal आदि जैसी वैबसाइट मे उत्तर देकर एक अच्छा बक्कलिंक पा सकते है।
  • आप बड़ी वैबसाइट मे अपना वैबसाइट यूआरएल कमेंट करके भी लिंक पा सकते है।

2. ब्रांड सिग्नल उत्पन्न करें

अब ऑफ-पेज एसईओ के सुपर अंडररेटेड हिस्से को कवर करने का समय आ गया है: ब्रांड सिग्नल- ब्रांड सिग्नल वे हैं जो Google यह पता लगाने के लिए उपयोग करता है कि आपकी साइट एक वैध ब्रांड है या नहीं। या जैसा कि Google के एरिक श्मिट ने प्रसिद्ध रूप से कहा: “ब्रांड समाधान हैं, समस्या नहीं … ब्रांड हैं कि आप सेसपूल को कैसे सुलझाते हैं”।

3. E.A.T में सुधार करें

E-A-T: Expertise, Authorativeness & Trustworthyness

E-A-T शीघ्र ही एक अत्यंत महत्वपूर्ण ऑफ-पेज SEO रैंकिंग कारक बन गया है। (विशेषकर स्वास्थ्य क्षेत्र में)

और जो आपने सुना होगा उसके बावजूद, आपकी साइट पर लेखक बायोस का एक गुच्छा जोड़ने के अलावा ई-ए-टी के लिए बहुत कुछ है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि Google आपकी वेबसाइट से होने वाले संकेतों के आधार पर बड़े पैमाने पर E-A-T को मापता है।

3. लोकल एसईओ (Local SEO) क्या है कैसे करे

लोकल एसईओ एक खोज इंजन अनुकूलन (एसईओ) रणनीति है जो आपके व्यवसाय को Google पर स्थानीय खोज परिणामों में अधिक ऊपर रेंक बनाने में मदद करती है।

लोकल एसईओ का Example
लोकल एसईओ का Example

लोकल एसईओ (Local SEO) क्यों महत्वपूर्ण है?

स्थानीय खोज के लिए अनुकूलन महत्वपूर्ण है, विशेष रूप से विशिष्ट कस्बों, शहरों, क्षेत्रों और यहां तक कि राज्यों की सेवा करने वाले व्यवसायों के लिए।

जब सही तरीके से किया जाता है, तो local SEO लोगों को आपके व्यवसाय के बारे में जल्दी और आसानी से जानकारी खोजने की अनुमति देता है, जिससे उन्हें लेनदेन के एक कदम और करीब ले जाया जाता है।

लोकल एसईओ (Local SEO) कैसे करे

इसमें एक व्यवसाय प्रविष्टि का दावा करने से लेकर Google पर एक स्थानीय खोज (स्थान डेटा या उद्धरण प्रबंधन के रूप में जानी जाने वाली प्रक्रिया) में फ़्रैंचाइज़ी स्थान सुनिश्चित करने तक सब कुछ शामिल है। यह ऑनलाइन रेटिंग और समीक्षाओं, स्थानीय-केंद्रित सोशल मीडिया जुड़ाव, और उससे आगे के प्रबंधन के लिए भी विस्तारित है।

लोकल एसईओ के लिए आप गूगल Maps व गूगल Businees एप का इस्तेमाल कर सकते है। आपको बस वह पे अपने Business कि जानकारी देनी होती है। और उस business को verify करना होता है।

वैबसाइट या ब्लॉग के लिए SEO क्यू जारूरी है | SEO का महत्व

वैबसाइट व ब्लॉग के एसईओ बेहद ही जरूर होता है। यदि आपने कोई नयी वैबसाइट बनाई है तो आपको एसईओ जरूर आना चाहिए तभी आपकी वैबसाइट मे लोग आएंगे ओर आप कुछ पैसे google adsense आदि के जरिए कमा पाओगे।

SEO क्यों जरूरी है?

वैबसाइट विसिबिलिटी और रैंकिंग

किसी सेवा या उत्पाद को ऑनलाइन खोजते समय, उपयोगकर्ताओं द्वारा उन शीर्ष पांच सुझावों में से एक को चुनने की अधिक संभावना होती है जो खोज इंजन उन्हें दिखाता है। SEO आपको खोज परिणामों में उच्च रैंक देने और ऑनलाइन अधिक दृश्यता प्राप्त करने में मदद करता है, जिससे संभावित ग्राहकों को आपकी साइट पर क्लिक करने और रूपांतरित होने की अधिक संभावना होती है।

वेब ट्रेफिक

सीधे शब्दों में कहें तो – यदि संभावित ग्राहक आपकी वेबसाइट नहीं ढूंढ पा रहे हैं, तो बिक्री के अवसर छूट रहे हैं। SEO आपके ऑर्गेनिक सर्च इंजन ट्रैफिक को बढ़ाता है, बदले में आपके पेज द्वारा प्रतिदिन देखे जाने वाले विज़िटर्स की संख्या में वृद्धि करता है। यह सीधे बिक्री में वृद्धि से संबंधित है – क्योंकि जितने अधिक प्रासंगिक लोग आपकी साइट को देखते हैं, उतनी ही अधिक संभावना है कि आप उन्हें बेचेंगे।

भरोसेमंद वैबसाइट बनाने के लिए

आपका SEO स्कोर जितना बेहतर होगा, आप Google और Bing जैसे सर्च इंजन पर उतने ही अधिक दिखाई देंगे। जबकि Google पर उच्च रैंकिंग सभी ब्रांडों को आकर्षित कर रही है क्योंकि बढ़ी हुई दृश्यता पर, एक दूसरा लाभ संभावित ग्राहकों के साथ आपको मिलने वाला विश्वास है। उपयोगकर्ता उन अनुशंसाओं को टालते हैं जो एक खोज इंजन उत्पन्न करता है, इसलिए उपयोगकर्ता द्वारा खोजे जा रहे कीवर्ड के लिए उच्च स्थान होने से, बदले में, आपके उत्पाद या सेवा को उपयोगकर्ता के दिमाग में भरोसेमंद के रूप में मजबूत किया जाता है।

प्रयोगकर्ता का अनुभव बढ़ाने के लिए

एक अच्छी तरह से अनुकूलित वेबसाइट स्पष्ट रूप से बताती है कि कौन सा उत्पाद या सेवा पेश की जा रही है, इसे कैसे प्राप्त किया जाए और इसके आसपास के किसी भी प्रश्न का उत्तर दिया जाए। उपयोगकर्ता के अनुभव के अनुसार साइट का निर्माण करके, Google और बिंग जैसे खोज इंजन आसानी से उन सूचनाओं को खींचने में सक्षम होते हैं जिनकी उन्हें उपयोगकर्ताओं को रिले करने की आवश्यकता होती है। यदि कोई उपयोगकर्ता आपकी साइट पर नेविगेट करने के लिए संघर्ष करता है, तो संभावना है कि खोज इंजन भी ऐसा ही करें।

वैबसाइट व अपने विकास के लिए

इसमें कोई संदेह नहीं है – SEO आपके ब्रांड के विकास की कुंजी है। जैसा कि हमने ऊपर उल्लेख किया है, आप विभिन्न प्रकार के उच्च-मात्रा वाले खोजशब्दों के लिए एक खोज इंजन पर उच्च रैंक करते हैं, m
एक अवैतनिक) वेब ट्रैफ़िक जो आपकी साइट को प्राप्त होगा। यह इतना सरल है।

एक वेबसाइट जो अच्छी तरह से अनुकूलित है, अधिक ग्राहकों को प्राप्त करने और अधिक बिक्री करने की अधिक संभावना है। एक बार खोज इंजन के माध्यम से आपकी वेबसाइट मिलने के बाद लोग आपके ब्रांड को फेसबुक या इंस्टाग्राम जैसे अन्य सोशल प्लेटफॉर्म पर साझा करने की अधिक संभावना रखते हैं।

मार्केटिंग के लिए SEO क्यों जरूरी है?

SEO डिजिटल मार्केटिंग का एक मूलभूत हिस्सा है क्योंकि लोग हर साल खरबों खोज करते हैं, अक्सर लोग व्यावसायिक इरादे से उत्पादों और सेवाओं के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए। खोज अक्सर ब्रांडों के लिए डिजिटल ट्रैफ़िक का प्राथमिक स्रोत होता है और अन्य मार्केटिंग चैनलों का साथी भी होता है।

आपके competitor से सर्च रिज़ल्ट मे ऊपर आना आपके और आपके बिज़नस के लिए बहुत अच्छा होता है। जैसे लोग सर्च करते है किसी प्रॉडक्ट के बारे मे यदि आप उस प्रॉडक्ट को खुद बेचते है या आप किसी का वह प्रॉडक्ट बिकवा के पैसे कमाते है तो आप SEO कि मदद से सर्च रिज़ल्ट मे ऊपर आकार लोगो को आकर्षित करके वह प्रॉडक्ट बेच कर बहुत से पैसे भी कमा सकते है।

ब्लैक हैट बनाम व्हाइट हैट एसईओ(Black Hat Vs. White Hat SEO)

ब्लैक हैट एसईओ लिंक खरीदने, कीवर्ड स्टफिंग करने और सामग्री की नकल करने जैसी घिनौनी रणनीति का उपयोग कर रहा है। जबकि ये चीजें अल्पावधि में काम करती हैं, वे लंबे समय तक काम नहीं करेंगी। आपको एक या दो महीने के लिए ट्रैफ़िक और राजस्व में वृद्धि दिखाई दे सकती है जब तक कि Google आपका पता नहीं लगाता और आपकी साइट को ऐसा करने के लिए ब्लैकलिस्ट नहीं करता।

व्हाइट हैट एसईओ एक सही दिशा मे एसईओ कि और जाने का रास्ता है। इसमें अधिक समय लगता है, लेकिन यह सही रणनीति को लागू करता है जो आपको आने वाले वर्षों के लिए भुगतान करेगी।

SEO के बारे में जानकारी (Terms) हिन्दी में

इस गाइड में प्रयुक्त महत्वपूर्ण शब्दों की एक संक्षिप्त शब्दावली यहां दी गई है जो की SEO को समझने मे आपकी मदद करते है:

  • सर्च इंजन – Search Engine वह है जो आपके ऑनलाइन कुछ भी सर्च करने बाद आपको महत्वपूर्ण सामग्री(सर्च रिज़ल्ट) प्रदान करते है। जैसे की गूगल, याहू,बिंग, आदि।
  • सर्च रिज़ल्ट– आप जो कुछ सर्च करते है उसके बाद सर्च इंजन जैसे कि गूगल आपको उसके बारे मे जनकरी दिखाता है अजिसे कि फोटो, विडियो, वैबसाइट आदि। उसी को सर्च रिज़ल्ट कहते है।
  • एल्गॉरिथ्म(algorithm) – सभी खोज इंजिन के पास खुद का तरीका होता है वेब पेज को क्राल करने का, उसी तरीके को एल्गॉरिथ्म कहते है। जैसे गणित मे एक सवाल को करने के कई तरीके होते है वैसे ही वेब पेज को क्राव्ल करने के एल्गॉरिथ्म भी सभी सर्च इंजिन के अलग अलग होते है। समय के एल्गॉरिथ्म मे बदवाव होते रहते है ताकि कोई उन्हे समझ न सके।
  • इंडेक्सिंग – Google और बाकी सभी सर्च इंजिन उन सभी वेब पेजों को स्टोर करते है जिनके बारे में वह अपने इंडेक्स में जानता है। हर एक वेब पगे की इंडेक्सिंग उस पगे मे मौजूद कंटैंट और यूआरएल पर निर्भर होती है। इंडेक्सिंग तब होती है जब Google कोई नया पेज प्राप्त करता है, उसे पढ़ता है, और उसे इंडेक्सिंग में जोड़ता है।
  • क्रॉल – नए या अपडेट किए गए वेब पेजों को खोजने की प्रक्रिया को क्राल कहते है। Google लिंक का अनुसरण करके, साइटमैप पढ़कर, और कई अन्य माध्यमों से URL खोजता है। Google नए पेज की तलाश में वेब को क्रॉल(ढूंढता) करता है, फिर उन्हें अनुक्रमित(index) करता है।
  • रेंकिंग – यह खोज परिणामो मे आपकी वैबसाइट व कंटैंट कि position को बताता है। जैसे कि कुछ सर्च करने के बाद आपका कंटैंट कोनसे पेज मे किस स्थान पर आ रहा है।
  • क्रॉलर – यह है एक सर्च engine का ऑनलाइन सॉफ़्टवेयर होता है जो वेब से पेज को क्रॉल करता है और उन्हें अनुक्रमित(index) करता है।
  • Googlebot – यह Google के क्रॉलर का सामान्य नाम है। Googlebot लगातार वेब को क्रॉल करता है।
  • SEOसर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन: आपकी साइट को सर्च इंजन के लिए बेहतर बनाने की प्रक्रिया कहलाती है। साथ ही उस व्यक्ति की नौकरी का शीर्षक जो जीवन यापन के लिए ऐसा करता है: हमने वेब पर अपनी उपस्थिति को बेहतर बनाने के लिए अभी एक नया SEO हायर किया है।
  • Organic ट्रेफिक – वे सभी लोग जो आपके वैबसाइट मे सर्च इंजन के माध्यम से बिना आपका कोई पैसा लगाए फ्री मे कुछ सर्च करके जानकारी लेने आते है वही ओरगनिक(organic) ट्रेफिक कहलाता है।
  • Keyword – जो भी बहुत से लोग किसी चीज़ को सर्च करने के लिए लिखते है और सर्च करते है वही keyword कहलाता है। जैसे “हनुमान चालीसा” एक keyword है बहुत से लोग इसी को लिखकर सर्च करते है।
  • SERP – सर्च इंजन पेज रिज़ल्ट (SERP) का मतलब होता है की keyword सर्च करने के बाद जो भी रिज़ल्ट सर्च इंजन हमें दिखाता है।
  • खोज का इरादा/सर्च इंटेंट- (जिसे “यूजर इंटेंट” भी कहा जाता है) एक सर्च इंजन में क्वेरी टाइप करते समय एक यूजर का मुख्य लक्ष्य होता है। जैसा user ने खोजा है उसे वैसे ही कंटैंट चाहिए होता है।

FAQ’s SEO in Hindi

Q. मार्केटिंग में SEO क्या है?

एसईओ(SEO) से तात्पर्य सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन है।” सरल शब्दों में, इसका अर्थ यह है कि जब लोग Google, बिंग और अन्य खोज इंजनों में आपके व्यवसाय से संबंधित उत्पादों या सेवाओं की खोज करते हैं, तो आपकी साइट की दृश्यता बढ़ाने के लिए इसे बेहतर बनाने की प्रक्रिया।

Q. SEO क्या है और यह कैसे काम करता है?

SEO का मतलब सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन है, जो एक डिजिटल मार्केटिंग रणनीति है जो Google जैसे सर्च इंजन पर सर्च रिजल्ट में आपकी वेबसाइट की उपस्थिति पर ध्यान केंद्रित करती है। जब आप समझते हैं कि SEO कैसे काम करता है, तो आप खोज परिणामों में अपनी दृश्यता (या आपकी रैंक कितनी ऊँची है) बढ़ाने के लिए विभिन्न युक्तियों का उपयोग कर सकते हैं।

Q. क्या SEO सीखना आसान है?

SEO सीखना इतना कठिन नहीं है। आपको बस इतना करना है कि विभिन्न एसईओ अवधारणाओं को सीखने के लिए आवश्यक समय और प्रयास आवंटित करने के लिए तैयार रहना है। … बहुत सारे ऑनलाइन संसाधन हैं जिनका उपयोग आप SEO सीखने के लिए कर सकते हैं और क्यों न कुछ ही समय में SEO विशेषज्ञ बन जाएं।

Q. मैं अपनी वेबसाइट का SEO सही से कैसे करूँ?

  • सही यूआरएल चुनें।
  • प्रत्येक पृष्ठ के लिए शीर्षक और विवरण बनाएं।
  • एंकर टेक्स्ट का उपयोग करें।
  • अपनी सभी फ़ोटो में वैकल्पिक पेज जोड़ें।
  • अपनी साइट की संरचना सही हेडर के साथ दें।
  • एक अच्छा वैल्यू वाला कंटेंट लिखे।
  • एक्सटर्नल और इंटरनल लिंक का उपयोग करें।
  • साइट टाइटल, लिंक, मेटा डिस्क्रिप्शन में कीवर्ड का प्रयोग करे।

निष्कर्ष– आशा करते है आपको SEO के बारे में सही और पुरी जानकारी मिली होगा। इस पोस्ट में कमेंट करके जरूर बताएं।

Leave a Reply