उपसर्ग की परिभाषा भेद और उदाहरण | Upsarg in Hindi with examples | shabd in hindi

उपसर्ग की परिभाषा भेद और उदाहरण | Upsarg in Hindi with examples. Upsarg shabd in hindi. उपसर्ग शब्द हिंदी में।

उपसर्ग की परिभाषा

उपसर्ग वह शब्दांश है जो किसी अन्य शब्द के प्रारंभ में जुड़कर शब्द के अर्थ में विशेषता या परिवर्तन उत्पन्न करते हैं ।उपसर्ग को ‘आदि प्रत्यय’ भी कहा जाता है। Also- प्रत्यय की परिभाषा, भेद और उदाहरण

अन्य शब्दों में: उपसर्ग- उप (समीप)+सर्ग (सृष्टि करना) से बना है। इसका अर्थ है-किसी शब्द के समीप आकर नया शब्द बनाना ।जो शब्दांश शब्दों के आदि में जुड़कर उनके अर्थ में कुछ विशेषता लाते हैं ,वे उपसर्ग कहलाते हैं।

जैसे-काल शब्द का अर्थ है ‘विनाश’ परंतु इसी शब्द के आगे अगर ‘अ’ लगा दिया जाए तो यह ‘अकाल’ बन जाता है। जो कि कहलाता है ‘महामारी’।

उपसर्ग की परिभाषा

उपसर्ग के भेद

हिंदी भाषा में प्रयुक्त होने वाले उपसर्ग संस्कृत ,हिंदी तथा उर्दू भाषा के हैं। इन भाषाओं के हिंदी में प्रयुक्त कुछ उपसर्ग का विवरण इस प्रकार है-

  1. संस्कृत के उपसर्ग-प्र, परा, अप, सम, अनु ,अव, अलम्,आविर,आ,निस,निर,दुस,दुर,वि,अंग,नि,अधिक,अपि,अति,सु,उत,अभि, प्रति, परी, उप, इति,तिरस, पुरा, प्राक्, प्रादुर
  2. हिंदी के उपसर्ग-अ,अध,उ,उन,और,कु,क,दु,नि,बिन,भर,से,सु
  3. उर्दू एवं फारसी के उपसर्ग-अल,ऐन,कम,खुश,गैर,दर,ना,फिल,पी,ब,बंद, बर,बाद,बिल,बिला,बेला,सर,हम,हर

निम्नलिखित प्रमुख शब्द तथा उनमें जुड़े उपसर्गों  की सूची–

शब्द                                 उपसर्ग

अत्यंत                                 अति

अधिकार                              अधि

अत्याचार                              अति

अध्ययन                               अधि

अनुचर                                 अनु

अनुभव                                 अनु

अपयश                                 अप

अभिमुख                               अभि

अभ्यास                                अभि

अवसान                                अव

आरंभ                                   आ

आहार                                   आ

उन्नति                                     उत्

उच्चारण                                 उत्

उल्लंघन                                 उत्

उपकार                                  उप

दुराचार                                  दुर्

दुर्जन                                     दुर्

दुष्कर्म                    ‌।              दुस्

नियुक्त                                    नि

निर्जीव                                    निर्

निष्काम                                   निस्

निष्कलंक                                 निस्

पराजय                                    परा

पराक्रम                                    परा

पर्याप्त                                     परि

पर्यावरण                                  परि

प्रबल                                       प्र

प्रताप                                       प्र

प्रस्ताव                                      प्र

प्रत्यक्ष                                      प्रति

प्रतिक्षण                                    प्रति

विशिष्ट                                      वि

विजय                                      वि

संन्यास                                     सम्

संयोग                                      सम्

स्वच्छ                                       सु

सुशील                                      सु

सदाचार                                    सत्

पुरातन                                     पुरा

अनमोल                                   अन

परलोक                                   पर

कुकर्म                                      कु

कुपुत्र                                       कु

अकाल                                     अ

पुनर्विवाह                                  पुनर्

पुनर्गठन                                    पुनर्

अंतर्मुखी                                   अंतर्

स्वदेश                                     स्व

स्वचालित                                 स्व

प्राक्कथन                                  प्राक

सहमति                                    सह

अनपढ़                                      अन

भरपूर                                      भर

अधकचरा                                  अध

बदौलत                                      ब

बावजूद                                     बा

बेईमान                                     बे

बेगुनाह                                      बे

बदनाम                                      बद

बदतमीज                                    बद

ये भी पढ़ें-

Findhow.net HomepageClick Here
Telegram Channel Click Here

Leave a Reply